बसपा विधायको ने बसपा प्रदेश अध्यक्ष एवं प्रभारी पर लगाए गंभीर आरोप जानिए क्या बोले मोहम्मद शहजाद, सरवत करीम अंसारी


रिपोर्ट रुड़की हब
रुड़की।।हरिद्वार पंचायत चुनाव के परिणाम आने के बाद बसपा के दोनों विधायक अपने संगठन से बेहद नाराज़ हैं। दोनों विधायकों ने पंचायत चुनाव में अपनी उपेक्षा का जिम्मेदार बसपा के प्रदेश अध्यक्ष आदित्य बृजवाल और पूर्व विधायक हरिदास पर लगाया है।इतना ही नहीं उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष आदित्य बृजवाल और प्रदेश प्रभारी पर पंचायत चुनाव में बसपा को कमज़ोर करने का गम्भीर आरोप भी लगाया है।


अपने कैम्प कार्यालय पर एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए लक्सर से बसपा विधायक मोहम्मद शहज़ाद और मंगलौर विधायक हाजी सरवत करीम अंसारी ने बसपा प्रदेश अध्यक्ष आदित्य बृजवाल और हरिदास पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें पंचायत चुनाव से दूर रखा गया उनकी पार्टी में उपेक्षा की गई। बसपा विधायक ने कहा कि जिला पंचायत चुनाव में प्रतियाशियो का चयन भी मनमाने तरीके से किया गया सामान्य सीटों पर भी दलित समाज के लोगों को चुनाव लड़ाया गया।जबकि उन सीटों पर बेहतर और जिताऊ प्रतियाशी बसपा के पास मौजूद थे।उन्होंने कहा कि वह बसपा प्रमुख मायावती का बेहद सम्मान करते हैं और करते रहेंगे लेकिन जब उनकी मीटिंग बसपा प्रमुख मायावती से होगी तो वह अपना पक्ष ज़रूर रखेंगे।

उन्होंने आरोप लगाया कि सोशल मीडिया पर आज मुस्लिम समाज को तरह तरह से बदनाम किया जा रहा है 2012 में जब बसपा को बचाने का काम हाजी सरवत करीम अंसारी ने किया थाउसे बसपा के लोग भूल गए जबकि हरिदास और स्वर्गीय सुरेंद्र राकेश ने बसपा को धोखा देने का काम किया था। उन्होंने आरोप लगाया कि आज बसपा प्रदेश अध्यक्ष ने मुस्लिम समाज को टिकट नहीं दिए जिसका खामियाजा बहुजन समाज पार्टी को भुगतना पड़ा है उन्होंने कहा कि चुनाव में बड़े पैमाने पर धांधली हुई है जिसकी जांच होनी चाहिए। शहज़ाद ने कहा कि बहादराबाद और भगवानपुर में मुस्लिम समाज पर लाठी चार्ज हुआ है जबकि रूड़कीं और नारसन में दलितों पर लाठी चार्ज हुआ है लेकिन बसपा के प्रदेश अध्यक्ष आदित्य बृजवाल शांत हैं जिन्हें जांच की मांग उठानी चाहिए।

इस दौरान बसपा के मंगलौर विधायक हाजी सरवत करीम अंसारी ने भी बसपा प्रदेश अध्यक्ष आदित्य बृजवाल और हरिदास पर जोरदार हमला बोला।उन्होंने आरोप लगाया कि ज़िला पंचायत की 44 सीटों में से 28 सीटों पर हारने वाले प्रतियाशियो को चुनाव लड़ाया गया जिससे बसपा का संगठन बेहद कमजोर साबित हुआ है। बसपा प्रदेश अध्यक्ष की लापरवाही का खामियाज़ा आज बसपा को भुगतना पड़ा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.