आचार संहिता लागू होने के बाद नेताजी नहीं कर सकेंगे ये काम ​पांच राज्यों में चुनाव आचार संहिता लागू-उत्तराखण्ड में 14 फरवरी को मतदान-10 मार्च को आएंगे परिणाम

रिपोर्ट रुड़की हब

रुड़की। उत्तराखण्ड विधानसभा चुनाव का बिगुल बज गया है। चुनाव आयोग ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पांच राज्यों में मतदान की तारीखों का ऐलान कर दिया। उत्तराखण्ड के साथ ही उत्तर प्रदेश में दूसरे फेज का मतदान 14 फरवरी को होगा। यह चुनाव एक चरण में होंगे। इस दौरान 28 जनवरी को नॉमिनेशन की आखिरी तारीख होगी। वहीं उम्मीदवार अपने नाम को वापस 31 जनवरी तक ले सकते हैंं

विधानसभा चुनाव के लिए पांच राज्यों में आचार संहिता लागू हो गई है मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने आचार संहिता की घोषणा करते हुए कहा कि समय पर चुनाव करवाना निर्वाचन आयोग की जिम्मेदारी है चुनाव कोविड नियमों का पालन करते हुए संपन्न करवाए जाएंगे।


उत्तर प्रदेश,उत्तराखंड,पंजाब,गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लागू हो गई है।पांचों राज्यों में 7 चरणों में होंगे चुनाव।पंजाब, गोवा और उत्तराखंड में एक-एक चरण में होंगे चुनाव।तीनो राज्यों में 14 फरवरी को मतदान होगा। मणिपुर में दो चरणों में होंगे चुनाव। वहीं उत्तर प्रदेश में 10 फरवरी को पहला चरण, 14 फरवरी को दूसरा चरण,20फरवरी तीसरा चरण, 23 फरवरी चौथा चरण, 27 फरवरी को पांचवा चरण होगा। 7 मार्च को चुनाव संपन्न होंगे और 10 मार्च को पांचों राज्यों के चुनाव परिणाम आएंगे। पांचों राज्यों में 18.34 करोड वोटर मतदान करेंगे जिसमें 8 करोड़ 55 लाख महिला मतदाता है। पहले के मुकाबले 24 लाख से अधिक मतदाता बढ़े हैं।
1-उम्मीदवार नामांकन ऑनलाइन भी कर सकेंगे। सुविधा ऐप के जरिए हो सकेगा नामांकन।
2- 2 लाख 15 हजार 368 बूथ पांचो राज्यों में हैं। हर पोलिंग बूथ पर होगा कोविड नियमों का पालन। प्रत्येक बूथ पर 1250 मतदाता करेंगे मतदान।
3-आपराधिक आरोप वाले उम्मीदवार को जानकारी देनी होगी। टीवी चैनल और अखबार में तीन बार विज्ञापन के माध्यम से देंगे जानकारी।
4- कोविड नियमों का रखा जाएगा ध्यान हर बूथ पर मास्क और सैनिटाइजर रहेंगे उपलब्ध।
5- 900 वर्ग जरूर रखेंगे चुनाव पर नजर।
6- पोलिंग बूथों पर दिव्यांगों के लिए अलग से होगी सुविधा।
7- सभी चुनाव कर्मियों के लिए वैक्सीनेशन किया गया अनिवार्य।
8- चुनाव में पैसों के उपयोग पर जीरो टोलरेंस-अवैध पैसे और शराब पर रखी जाएगी नजर।
9- रोड शो, बाइक शो, पदयात्रा रैलियों पर 15 जनवरी तक रोक। नुक्कड़ सभाएं भी नहीं हो सकेंगी। 15 जनवरी के बाद हालातों की दोबारा से समीक्षा होगी।
10- राजनीतिक दलों को वर्चुअल रैली करने की दी सलाह। डोर टू डोर प्रचार के लिए सिर्फ पांच लोगों को इजाजत

Leave a Reply

Your email address will not be published.