वार्ड नंबर 2 नगर निगम रुड़की उपाध्यक्ष भाजपा पूर्वी मंडल प्रतिनिधि पार्षद सचिन कश्यप कांग्रेस प्रत्याशी यशपाल राणा की गाड़ी में चुनाव के दिन घूमते हुए


रिपोर्ट रुड़की हब
रुड़की। पहले से ही माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव में रुड़की सीट पर भाजपा और कांग्रेस में बड़े स्तर पर भीतरघात हुआ है लेकिन इसका कोई प्रमाण और साक्ष्य न मौजूद होने के कारण किसी का नाम स्पष्ट लेने की न तो प्रत्याशी हिम्मत कर पा रहे हैं और न ही पार्टी के पदाधिकारी। वहीं अब एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है जिससे भीतरघात की बात को बल मिलता है।


रुड़की में भाजपा और कांग्रेस दोनो ही ओर से टिकट को लेकर काफी संख्या में लोगों ने दावेदारी की थी वहीं भाजपा ने प्रदीप बत्रा को टिकट दिया तो कांग्रेस ने यशपाल राणा को। प्रदीप बत्रा ने रूठे हुए लोगों को मनाने का प्रयास भी किया जिसमें कुछ लोग उनके साथ चुनाव में दिखे भी तो कुछ साथ होते हुए भी साथ नही थे वह साथ मे तो बत्रा के लिए काम करते रहे तो अंदरूनी तौर पर विपक्षी के लिए काम करने की आशंका बनी रही। वही यशपाल राणा के साथ कांग्रेस से टिकट की दावेदारी करने वाले अधिकतर लोगों ने प्रचार कर दौरान दूरी बनाए रखी। कई लोग न ही डोर टू डोर जनसम्पर्क के दौरान नजर आए और न ही सभाओं में। राणा ने पूरा चुनाव खुले तौर पर अपनी टीम के बूते लड़ा तो भितरघातियों की मदद भी उन्हें अंदरूनी तौर पर मिलती रही । वहीं भाजपा में भितरघात हुआ है इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है जिसमें आदर्श नगर के पार्षद पुत्र एवं भाजपा के मंडल उपाध्यक्ष सचिन कश्यप कांग्रेस प्रत्याशी यशपाल राणा के कारण बैठे नजर आ रहे हैं वीडियो आदर्श नगर स्थित ग्रीनवे पब्लिक स्कूल के बाहर का है। आपको बता दें कि सचिन कश्यप पूरे ही चुनाव में भाजपा प्रत्याशी प्रदीप बत्रा के साथ नजर आए और उनके पारिवारिक सम्बन्धी अरविंद कश्यप चुनाव के दौरान कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर ही चुके थे। अब वायरल हुई वीडियो में देखा जा सकता है कि यशपाल राणा ग्रीनवे स्कूल स्थित बूथ से बाहर निकलते दिखाई देते हैं उनके साथ अरविंद कश्यप समेत अन्य समर्थक मौजूद हैं तो वहीं सचिन कश्यप झंडा चौक की ओर से आते हैं और यशपाल राणा के साथ उनकी कार में बैठ जाते हैं। इस वीडियो के वायरल होने के आशंका जताई जा रही है कि सचिन कश्यप का नाम भितरघातियों में शामिल हो सकता है।
वहीं इस सम्बंध में सचिन कश्यप का कहना है कि वह निष्पक्ष होकर चुनाव में भाजपा के साथ रहे हैं। इस वजह से मेरी ताऊ अरविंद कश्यप से भी बातचीत बन्द हो गयी थी उस दिन ताऊ जी ग्रीनवे स्कूल के बाहर मिले उन्होंने कहा कि अब तो चुनाव सम्पन्न होने को है अब तो मनमुटाव खत्म करो। फिर मुझे किसी काम से मलकपुर चुंगी जाना था तो मैं उनकी कार में बैठ गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.