आईआईटी (IIT) रुड़की ने कम कार्बन ऊर्जा उत्पादन के लिए वन्य जैव अवशेषों के उपयोग की संभावनाओं का मूल्यांकन किया


रिपोर्ट रुड़की हब
रुड़की,: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की (आईआईटी रुड़की) से प्रोफेसर विनय शर्मा और प्रोफेसर रजत अग्रवाल ने कम लागत वाली ऊर्जा उत्पादन के लिए वन्य जैव अवशेषों के उपयोग पर एक परियोजना की कल्पना की। “संयुक्त राष्ट्र एसडीजी (UNs SDGs) के साथ संरेखण में वन जैव अवशेष ऊर्जा उत्पादन के माध्यम से सामाजिक-आर्थिक मूल्य निर्माण” शीर्षक वाली परियोजना को भारत सरकार के पर्यावरण और वन मंत्रालय के तहत हिमालयी अध्ययन पर राष्ट्रीय मिशन द्वारा वित्तीय रूप से समर्थित एक पायलट परियोजना के रूप में प्रदान किया गया, इसके साथ ही वन्य जैव अपशिष्ट अवशेषों से कम लागत वाली ऊर्जा उत्पादन के पूरक स्रोत के विकास के साथ-साथ उत्तराखंड के हिमालयी क्षेत्र में स्वदेशी हरित प्रौद्योगिकियों के स्थायी प्रबंधन प्रथाओं की स्थापना पर ध्यान केंद्रित किया गया।

इस परियोजना की पहल करते हुए योजना के अनुसार वन विभाग, उत्तराखंड की मदद से 100 एकड़ वन भूमि से कुल 1000 क्विंटल से अधिक चीड़ की सुइयां एकत्र की गईं। इन पाइन सुइयों को आईआईटी रुड़की और यूपीईएस (UPES), देहरादून की प्रयोगशालाओं में डिज़ाइन और विकसित मशीनों और क्रशर की मदद से क्रश और संसाधित (प्रॉसेस्ड) किया गया। परियोजना के शुभारंभ से पहले, गांवों में नियमित प्रशिक्षण और कार्यशाला सत्र और विशेषज्ञों और स्थानीय लोगों के बीच केंद्रित समूह चर्चा के रूप में सामुदायिक जुड़ाव और क्षमता जैसे निर्माण कार्यक्रम शुरू किए गए। गांवों के लाभार्थियों को ब्रिकेटिंग मशीन और क्रशर की स्थापना और संचालन सीखने के लिए एक प्रशिक्षण सह कार्यशाला सत्र कार्यक्रम चलाया गया, जहां विशेषज्ञों द्वारा संचालन और सुरक्षा से संबंधित शंकाओं और प्रश्नों का समाधान किया गया।

डॉ. गौरव दीक्षित, फैकल्टी, प्रबंधन अध्ययन विभाग, आईआईटी रुड़की, ने ब्रिकेट के विक्रेता और खरीदार को जोड़कर संपूर्ण मूल्य श्रृंखला को एकीकृत करने के लिए एक बहुउद्देशीय और उपयोगकर्ता के अनुकूल मोबाइल एप्लिकेशन “हिमालयन ब्रिकेट प्रोडक्शन एंड मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर” विकसित किया। अब औद्योगिक विस्तार के लिए बड़े स्तर पर परियोजना के दूसरे चरण की कल्पना की जा रही है जिसमें उत्तराखंड के अनेक जंगलों में उत्पन्न होने वाली आग जो हेक्टेयर भूमि को स्वाहा करने के लिए ज़िम्मेदार हो सकती है।

परियोजना की अवधारणा पीएच.डी. रिसर्च के माध्यम से विकसित हुई जिसे प्रोफेसर विनय शर्मा और पीएच.डी स्कॉलर डॉ. कपिल जोशी, एडिशनल प्रधान मुख्य वन संरक्षक, वन विभाग, उत्तराखंड सरकार द्वारा निर्देशित किया गया। कोर टीम ने यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज़, देहरादून से भी भागीदारी की, जिसमें डॉ प्रसून द्विवेदी, डॉ पंकज शर्मा, डॉ अनीता सेंगर और डॉ अलका द्विवेदी ने मशीन के डिज़ाइन को मज़बूत करने में योगदान दिया, जिसकी कल्पना डॉक्टर जोशी की थीसिस के अंतर्गत आईआईटी रुड़की द्वारा की गई। प्रारंभिक डिज़ाइन जिसे विकसित और मज़बूत किया गया था, एक अलग परियोजना जिसे आईआईटी (IIT) रुड़की के हाइड्रो और नवीकरण ऊर्जा विभाग के प्रोफेसर आर.पी. सैनी द्वारा समर्थित और डेवलप किया गया।

आईआईटी रुड़की के प्रोफेसर विनय शर्मा ने कहा, “परियोजना का उद्देश्य विनाशकारी आग की समस्या को रचनात्मक रूप से कम लागत वाली ऊर्जा में परिवर्तित करना है। यह परियोजना का एक महत्वपूर्ण चरण है जहां हितधारक रुचि दिखा रहे हैं और पूरी अवधारणा को अपनाने के लिए आगे आ रहे हैं”।

परियोजना के बारे में बात करते हुए, उत्तराखंड सरकार के वन विभाग के अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन संरक्षक,डॉक्टर कपिल जोशी ने कहा, “जम्मू और कश्मीर के वन विभाग ने परियोजना की सफलता पर ध्यान दिया और जम्मू और कश्मीर में परियोजना की प्रतिकृति का सुझाव दिया। इसके अलावा परियोजना के क्रियान्वयन को देखते हुए हिमाचल प्रदेश के वन विभाग द्वारा अपने दम पर मशीनें भी लगाई जा रही हैं। मॉडल की सफल प्रतिकृति इस परियोजना से जुड़े हजारों लोगों को लाभार्थी के रूप में और उपयोगकर्ताओं के रूप में घरेलू स्तर की ऊर्जा को पूरा करने और उत्पाद नवाचार (प्रोडक्ट इनोवेशन) के माध्यम से आजीविका बढ़ाने के लिए आगे लाएगी”।

आईआईटी रुड़की के निदेशक प्रोफेसर अजीत चतुर्वेदी ने कहा, “इस परियोजना के प्रभावी निष्पादन से सरकार को अपने दीर्घकालिक विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद मिलेगी। यह मॉडल औद्योगिक उन्नयन के माध्यम से बाजार के विकास में भी मदद करेगा जिससे विभिन्न उद्योग वन्य जैव-अवशेष समाधान का उपयोग उनके संचालन के लिए कर सकते हैं”।

इस जर्नी के बारे में बात करते हुए, आईआईटी रुड़की के प्रोफेसर रजत अग्रवाल ने कहा, “जब परियोजना की कल्पना की जा रही थी, तब प्रौद्योगिकी हस्तक्षेप के माध्यम से पाइन सुइयों को कम लागत वाले ऊर्जा उत्पाद में बदलने के संबंध में एक पूर्ण मूल्य श्रृंखला पर विचार किया गया था, जहां चयनित ग्रामीणों को उत्तराखंड, चोपडा और श्यामखेत के विशेष क्षेत्रों में शामिल किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.