Patwari lekhpal Paper Leak: गिरफ्तार आरोपी प्रमोद ने खुद भी दी थी परीक्षा, रुड़की में ले रहा था कोचिंग

Patwari Lekhpal Paper Leak: सात लोगों की गिरफ्तारी के बाद एसटीएफ अब अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी कर सकती है। इसके लिए पुख्ता जानकारी और सुबूत जुटाए जा रहा है। एसटीएफ ने लक्सर के प्रमोद कुमार को पिछले शुक्रवार को गिरफ्तार किया था। उसने एमएससी की डिग्री हासिल की है और सरकारी नौकरी की तलाश कर रहा है।

लेखपाल भर्ती पेपर लीक मामले में गिरफ्तार आरोपी प्रमोद कुमार खुद भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था और लेखपाल भर्ती परीक्षा में भी शामिल हुआ था। माना जा रहा है कि खुद की नौकरी के लालच के साथ ही अन्य अभ्यर्थियों से कमाई करने के चक्कर में वह इस दलदल में घुस गया।

एसटीएफ ने लक्सर के प्रमोद कुमार को पिछले शुक्रवार को गिरफ्तार किया था। अन्य आरोपियों के साथ ही प्रमोद को भी न्यायालय में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया। प्रमोद के बारे में ग्रामीणों से जो जानकारी मिली है उसके अनुसार उसने एमएससी की डिग्री हासिल की है और सरकारी नौकरी की तलाश कर रहा है।
जानकारी मिली है कि इससे पहले उसने वीडीओ की परीक्षा भी दी थी लेकिन सफलता नहीं मिली। काफी समय से रुड़की में एक कोचिंग सेंटर में तैैयारी करने के साथ ही पार्ट टाइम जॉब भी कर रहा था। प्रमोद के तीन भाई और हैं। साथ ही खेतीबाड़ी भी है। कुल मिलाकर आर्थिक हालात अच्छे हैं लेकिन लंबे समय से नौकरी नहीं मिलने के कारण वह परेशान था। माना जा रहा है कि रुड़की में कोचिंग करने के दौरान ही उसकी अन्य आरोपियों से संपर्क हुआ। इसके बाद उसने खुद भी परीक्षा दी और अन्य अभ्यर्थियों से भी बातचीत कराई।
खुफिया विभाग पेपर लीक में शामिल छात्रों का तलाश रहा गठजोड़
बताया जा रहा है कि प्रारंभिक जांच में 30 से अधिक छात्रों को लेखपाल भर्ती का पेपर लीक कराने की बात सामने आई जो जबकि अब आंकड़ा सौ के पार तक पहुंच सकता है। माना जा रहा है कि जैसे-जैसे पूछताछ बढ़ेगी तो एक के बाद एक छात्रों और इसमें शामिल लोगों की भी कड़ी जुड़ेगी।


सात लोगों की गिरफ्तारी के बाद एसटीएफ अब अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी कर सकती है। इसके लिए पुख्ता जानकारी और सुबूत जुटाए जा रहा है। इसके लिए जहां एक ओर एसटीएफ अपनी ओर से जांच कर रही है वहीं दूसरी, खुफिया विभाग को भी अलग-अलग क्षेत्रों में जानकारी जुटाने के लिए सक्रिय कर दिया गया है।
बताया गया है कि एसटीएफ की जांच में पेपर लीक की पुष्टि होने के बाद इसमें शामिल आरोपियों के बारे में अलग-अलग जगहों से खुफिया विभाग की टीमों ने इनपुट दिए हैं। इसके आधार पर कुछ और गिरफ्तारियां करने में मदद मिली। वहीं अब एसटीएफ का रारगेट उन सभी संभावित छात्रों का सत्यापन करना है जो पेेपर लीक मामले में जु़ड़े छात्रों और आरोपियों से संपर्क में थे। बताया जा रहा है कि इसके लिए कॉल डिटेल के जरिए भी जानकारी जुटाई जा रही है। माना जा रहा है कि जल्द ही इसमें कई और नामों के खुलासे होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.