गजब! कांग्रेस के लेटर हेड पर भाजपा पार्षदों के हस्ताक्षर मामले ने पकड़ा तूल जानिए पूरी खबर

 

रिपोर्ट रुड़की हब

आपको बता दें की नगर निगम में पिछले 4 दिनों से सियासी घमासान जारी है इसी के चलते कल कुछ पार्षदों ने नगर निगम में बोर्ड बैठक कराने हेतु धरना प्रदर्शन किया, लेकिन बड़ी बात यह है की जिस लेटर पर पार्षदों के हस्ताक्षर है वह लेटर कांग्रेस पार्टी का है अब चौंकाने वाली बात यह है की आखिरकार भाजपा के पार्षदों ने कांग्रेस के लेटर हेड पर हस्ताक्षर कैसे कर दिए, यह बात भी जानेंगे

कांग्रेस के पार्षद आशीष अग्रवाल ने अपने लेटर हेड पर सभी पार्षदों के हस्ताक्षर करा लिए जिस पर साफ-साफ लिखा है (राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी) लेकिन भाजपा के पार्षदों द्वारा लेटर हेड पर हस्ताक्षर करना कितना सही है यह तो पार्टी तय करेगी।

जब हमने इस विषय को लेकर पार्षद स्वाति तोमर के प्रतिनिधि वह भाजपा नेता कुलदीप तोमर से बात की तो उन्होंने कहा मामला मेरे संज्ञान में नहीं है और हो भी क्यों क्योंकि कांग्रेस के लेटर हेड पर उनके हस्ताक्षर नहीं है।

फिर हस्ताक्षर विषय पर पार्षद नीतू शर्मा के प्रतिनिधि भाजपा नेता हरीश शर्मा से बात की तो उन्होंने स्पष्ट कहा कि उस वक्त हमारे पास कोई पेपर या लेटर नहीं था और नगर निगम एक परिवार है। वहां भाजपा कांग्रेस कुछ नहीं इसलिए हमने लेटर हेड पर हस्ताक्षर कर दिए।

इस मामले पर पार्षद राकेश गर्ग ने कहा की भाजपा पार्षदों द्वारा भाजपा के लेटर हेड पर ही हस्ताक्षर करके ज्ञापन नगर आयुक्त को सौंपा गया है लेकिन चौंकाने वाली बात यह है की कांग्रेस के लेटर हेड पर हस्ताक्षर किसने किए क्या कांग्रेसी पार्षद आशीष अग्रवाल ने सभी पार्षदों के हस्ताक्षर अपने आप ही कर दिए ।

इसी विषय को लेकर भाजपा नेता संजय कश्यप से बात हुई तो उन्होंने कहा कि हमने हस्ताक्षर नहीं किए

कांग्रेस पार्टी के लेटर हेड पर हस्ताक्षर मामले में फिर हमने भाजपा के मंडल अध्यक्ष प्रवीण सिंधु से बात की तो उन्होंने कहा मामला मेरे संज्ञान में है और मैंने इस  विषय में पार्षदों से बात की है। भाजपा पार्षदों का कहना है की उनकी अनुपस्थिति मे हस्ताक्षर किए गए हैं इसके बाद प्रवीण सिंधु ने कहा कि आगे यह जांच का विषय

इसी मामले में भाजपा मंडल अध्यक्ष अभिषेक चंद्रा से बात की गई तो उन्होंने कहा की मामला मेरे संज्ञान में है। और भाजपा संगठन को हमने इस मामले से अवगत करा दिया है। अगर भाजपा पार्षदों द्वारा ऐसा किया गया है तो जांच करने के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.