भक्तमाल कथा सुनने और सुनाने वाले दोनों इस संसार सागर में डूबने से बच जाते हैं,कथावाचक राधा किशोरी


रिपोर्ट रुड़की हब
रुड़की
।आवास विकास स्थित निलेश्वर महादेव मंदिर से प्रारंभ होकर निकाली गई भव्य कलश यात्रा कॉलोनी से होती हुई सरिता देवी पार्क में पहुंची,जहां भक्तमाल कथा के प्रथम दिन बड़ी संख्या में इस भव्य कलश यात्रा में भक्तों ने भाग लिया।वृंदावन से पधारी

कथावाचक राधा किशोरी ने इसकी महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भक्तमाल सुमेरु गोस्वामी श्री तुलसीदास जी ने भक्तों की माला अर्थात भक्तमाल की रचना की।भक्तमाल इस कलयुग में भगवत प्राप्ति का सरल साधन है,इसको सुनने और सुनाने वाले दोनों इस संसार सागर में डूबने से बच जाते हैं और इसके श्रवण से उन्हें हरीभक्ति रूपी जहाज आसानी से भक्त सागर से पार लगा देते हैं।संतों की कथा ही संतो का संग है।श्रीहरि संतो के प्यारे हैं और श्रीहरि को संत प्यारे हैं।भक्तमाल से हमें भगवान और भक्त दोनों की कृपया एक साथ प्राप्त होती है।भगवान की प्रेमा भक्ति हमसे दूर नहीं रह सकती।हमें अपने जीवन में भक्तमाल के श्रवन कीर्तन से जो ज्ञान मिलता है उसका वर्णन नहीं सकता बल्कि इसका अनुभव किया जाता है।मेयर गौरव गोयल ने भव्य कलश यात्रा में शामिल होकर कथा के प्रथम दिन पूजा-अर्चना की तथा कथा वाचक राधा किशोरी का आशीर्वाद प्राप्त किया।आवास विकास समिति द्वारा कथा के आयोजन अवसर पर पार्षद राकेश गर्ग,राहुल शर्मा, मनोज कुमार,सुमित कश्यप,मोनू कुमार,चंद्र कालरा,अनुज शर्मा,आशा देवी,अनुराधा शर्मा,मोनी चौधरी,अनुज गुप्ता,तुषार गोयल तथा अरुण शर्मा आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे। तीन दिनों तक चलने वाली इस कथा के अंतिम दिन भंडारे का भी आयोजन किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.