चावमंडी वार्ड से पार्षद पद हेतु तुषार अरोड़ा है कांग्रेस के मजबूत दावेदार,शहर में भी है लगातार सक्रिय।

नितिन कुमार


साकेत एवं चाव मंडी वार्ड से तुषार अरोड़ा कांग्रेस पार्टी से मजबूत दावेदारी कर रहे हैं।तुषार पेशे से एक अध्यापक है एवं पुहाना स्थित एक प्राइवेट पॉलिटेक्निक संस्थान में व्याख्याता के तौर पर कार्यरत हैं।इसी के साथ वह पिछले कई वर्षों से कांग्रेस पार्टी में सक्रिय हैं।कभी अरविंद केजरीवाल टीम के खास रहे तुषार अरोड़ा पिछले लोकसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए थे।कांग्रेस में सक्रिय होते ही वह लगातार कांग्रेस पार्टी के साथ नए युवाओं को जोड़ने में लग गए थे।कांग्रेस के प्रदेश स्तर के नेताओ के साथ ही रुड़की शहर के युवाओं में भी अच्छी खासी पकड़ रखते हैं।खास बात यह है कि राजनीति एवं सामाजिक कार्यो में तुषार की छवि ईमानदार एवं निष्पक्ष व्यक्ति की रही है।साथ ही तुषार अरोड़ा पिछले 10 वर्षों से आरटीआई एवं मानवाधिकार कार्यकर्ता के तौर पर भी कार्यरत हैं।आरटीआई क्लब ऊत्तराखण्ड रुड़की के संयोजक तथा दिव्यांग अधिकारों के लिए लगातार सक्रिय हैं।दिव्यांग हित के लिए इन्होंने ऊत्तराखण्ड सरकार द्वारा दो शासनादेश जारी कराने में भी अहम भूमिका निभाई है।एडीबी की लापरवाही के विरोध में इन्होंने रुड़की शहर में धरना प्रदर्शन तक कर दिया था।जिसके बाद एडीबी के खिलाफ पूरे शहर भर में आंदोलन शुरू हो गए थे।इनसे निबटने में एडीबी अधिकारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी थी।
हरिद्वार जिले में चिकित्सा के क्षेत्र में सुधार हेतु यह क्लीनिकल एस्टेब्लिशमेंट एक्ट को लागू कराने हेतु भी लगातार सक्रिय है।कभी कांग्रेस में प्रदीप बत्रा खेमे के साथ सक्रिय रहे अरोड़ा आज रुड़की विधायक के भाजपा में चले जाने के बावजूद भी कांग्रेस में लगातार सक्रिय हैं तथा वर्तमान में कांग्रेस पार्टी के प्रदेश सचिव हैं।इनके शालीन स्वभाव और ईमानदार छवि के कारण विरोधी पार्टी में भी इनके अच्छे-खासे मित्र हैं।अरोड़ा के अनुसार यदि पार्टी साकेत वार्ड अथवा चावमंडी वार्ड में से किसी एक पर भी उन पर भरोसा जताती है तो पार्टी नेतृत्व को निराश नही होना पड़ेगा।इनके अनुसार परिणाम चाहे कुछ भी हो यह चुनाव में किसी भी तरह के धनबल एवं अनुचित साधनों का प्रयोग नही करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.